Thursday 6 November 2008

नेताओं की छंटनी

----चुटकी----

कट गया टिकट
खडें हैं बीच मंझधार,
नेताओं पर भी
पड़ रही है
छंटनी की मार।

----गोविन्द गोयल

1 comment:

दिगम्बर नासवा said...

नेता जी कहने लगे
आ गई अपनी बारी
खोल पिटारा फ़िर करें
वादे भारी भारी

मेरे ब्लॉग पर भी आमंत्रित हैं