Wednesday 20 January 2010

पतझड़ मेरा मन



तेरा जाना पतझड़
तेरा आना बसंत,
मन एक
कामनाएं अनंत।
----
बसंत से सराबोर
हर उपवन,
पतझड़ सा वीरान
तेरा मेरा मन।

7 comments:

ह्रदय पुष्प said...

मन एक
कामनाएं अनंत।
सत्य वचन - बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएं

Rekhaa Prahalad said...

बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएं!

pankaj verma said...

मन एक
कामनाएं अनंत,
हर टूटी ख्वाइश,
पे बिखरे मन.
ढूंढें ये वो सरोबार उपवन,
तेरा मन और मेरा मन!

पी.सी.गोदियाल said...

बसंत से सराबोर
हर उपवन,
पतझड़ सा वीरान
तेरा मेरा मन।
बहुत खूब !

डॉ. मनोज मिश्र said...

बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएं..

मनोज कुमार said...

आपको भी वसंत पंचमी और सरस्वती पूजन की शुभकामनाये !

वन्दना अवस्थी दुबे said...

बहुत सुन्दर. वसन्तपंचमी की शुभकामनायें.