Tuesday 4 July 2017

सलाम....सलाम...सलाम


शब्दों के साथ छपे चित्र मेँ दिखाई देने वाले  इस परिवार को जानता नहीं। पहचानता नहीं। समझता भी नहीं। बस, यूं ही सफर मेँ मिल गए। ट्रेन मेँ चढ़ने के कुछ मिनट के बाद महिला मेम्बर वीडियो कॉलिंग से घर के किसी मेम्बर को यह बताने और दिखाने लगी कि कौन, कहां और कैसे बैठा है। आश्चर्य हुआ, लेकिन मोबाइल के इस दौर मेँ सब संभव था, यह सोच, देखता रहा। यह महिला हर मेम्बर का ध्यान रख रही थी। दो बुजुर्गों को मम्मी, डैडी बोलने वाली महिला ने उनको बैठाने, बर्थ पर चढ़ाने, लिटाने के बाद  खाने को दिया, दवा दी और मुस्कुराते  हुए अपनी बर्थ पर लेट मोबाइल मेँ फेसबुक या व्हाट्सएप मेँ कमेंट्स पढ़ और मुस्कुराने लगी। उसने डैडी’, मम्मी को बताया भी कि किसने क्या लिखा।  मैंने मेरे पास बैठे बुजुर्ग से पूछा, आपकी बिटिया है क्या? ना, मेरी नू [बहू] है। बेटी जैसी बहू। उसके बाद तो कई घंटे के सफर मेँ इस बहू के व्यवहार, आचरण, परिवार के प्रति उनके संस्कार देख उनको मन ही मन सलाम किया। बहू की किसी बात मेँ कोई बनावट नहीं दिखी और ना महसूस हुई। परिवार के मेंबर्स मेँ इतना कोर्डिनेशन, स्नेह, आपसी समझ, अपनापन कि उसे शब्दों मेँ नहीं बताया जा सकता। इस परिवार का लड़के ने पहली बार ट्रेन मेँ सफर किया था। बुजुर्ग 40 साल बाद ट्रेन मेँ  बैठे थे। मैं, नीलम और बहिन शशि हरिद्वार पहुँच कर भी बहू की तारीफ करते रहे। परिवार के आपसी स्नेह की चर्चा कर उनसे प्रेरणा लेने की बात करते रहे। उनके 5 मेंबर्स से किसी यात्री को शायद ही कोई असुविधा हुई हो। और वापसी मेँ ऐसा परिवार मिला, जिसमें आपसी कोर्डिनेशन तो होगा, लेकिन उनको केवल अपनी सुविधा से मतलब था, दूसरों को असुविधा हो तो हो। ईश्वर करे पहले वाले परिवार को खूब खूब यश, वैभव, शांति, सुकून, आनंद, सुख मिले और वे हवाज़ जहाज के मालिक भी बनें तो ट्रेन मेँ यात्रा करें ताकि दूसरों को उनके व्यवहार से प्रेरणा लेने का मौका मिले। दूसरे परिवार को भी यह सब मिले, लेकिन वे ट्रेन मेँ किसी को भी ना मिले। पहले वाले परिवार को सलाम, सलाम सलाम, खास कर बहू को, जो एक उदाहरण है मेरी नजर मेँ। दूसरे  परिवार को नमस्कार बस। अभिनंदन उस कोख का जिसने ऐसी बेटी को जन्म दिया और धन भाग उस परिवार के जहां वो बेटी बहू बन के गई। 

Sunday 16 April 2017

विचार बदलते ही संस्कार बदल जाते हैं

श्रीगंगानगर। तीन पुली के पास स्थित श्रीधर्म संघ संस्कृत महाविद्यालय गौशाला का वार्षिक उत्सव आज समारोह पूर्वक हुआ। समारोह मेँ व्यास पीठ से भक्तमाल की कथा सुनाई गई। भजन और कीर्तन हुआ। वक्ताओं ने कहा कि रामायण के महत्व का बखान करते हुए कहा कि इसके बिना तो बैकुंठ भी अधुरा है। इसमें कहां कितनी गहराई है कोई नहीं जान सका। जो जितना गहरा उतरता है उतना ही अधिक पाता है। एक वक्ता ने वेद शास्त्रों और अर्थ की बात कही। उनका कहना था कि जिनके पास अर्थ है। अर्थ का अधिकार है, उनका गौरव और सम्मान वेद की रक्षा के लिए अपना समर्पण करें। वेद शास्त्रों के कारण ही तो धर्म जीवित और ज्वलंत हैं। भारत है। हिन्दू हैं। मुख्य वक्ता ने कहा कि जिस दिन 16 संस्कार समाप्त हो जाएंगे उस दिन हिन्दू नहीं रहेगा। सनातन धर्म नहीं रहेगा। उन्होने यह बार धर्म परिवर्तन, वर्ण परिवर्तन के संदर्भ मेँ काही। वे बोले, धर्म और वर्ण परिवर्तन से कुछ नहीं होने वाला, सदियों से हो रहा है। संस्कार सनातन धर्म का आधार हैं। जब तक ये हैं तब तक सनातन धर्म और हिन्दू समाप्त नहीं हो सकते। एक वक्ता ने कहा कि विचार बदलते ही संस्कार और संसार बदल जाते हैं। कुम्हार जिस मिट्टी से चिलम बनाता है अगर उसी मिट्टी से चिलम के स्थान पर घड़ा बनाए तो मिट्टी का संसार बदल जाता है। उसके संस्कार बदल जाते हैं। कई घंटे के इस आयोजन मेँ स्वामी ब्रह्मदेव जी, संगरिया के दयानन्द शास्त्री, तनसुख राम शर्मा, विधायक कामिनी जिंदल, राजकुमार गौड़ सहित शहर के अनेक नागरिक मौजूद थे। संस्था के संचालक स्वामी कल्याण स्वरूप सहित विभिन्न स्थानों से आए अनेक संत मौजूद थे। ओजस्वी ढंग से मंच संचालन स्वामी स्वदेशाचार्य ने किया। कुछ मिनट के लिए पूर्व मंत्री देवी सिंह भाटी भी कार्यक्रम मेँ पहुंचे। 

Tuesday 14 March 2017

लोकतन्त्र मेँ सत्ता का अपहरण

गोविंद गोयल
श्रीगंगानगर। लगभग साढ़े चार दशक पुरानी गोपी फिल्म के एक गीत की पंक्ति है, जिसके हाथ मेँ होगी लाठी भैंस वही ले जाएगा। देख लो, गोवा और मणिपुर मेँ बीजेपी वाले ले गए। क्योंकि वर्तमान मेँ लाठी इनके हाथ मेँ है। लोकतन्त्र का इससे बड़ा अपमान क्या हो सकता है। जहां के वोटरों ने बीजेपी को बहुमत नहीं दिया। बहुमत क्या, सबसे बड़े दल के रूप मेँ भी पसंद नहीं किया, वहां बीजेपी सरकार बना रही है। इसे कहते हैं सत्ता का अपहरण। जब सबसे बड़ा दल कांग्रेस है तो फिर उसे ही सरकार बनाने के लिए बुलाया जाना चाहिए। मगर नहीं। शर्म और बेहद शर्म की बात है ये, सभी के लिए। लोकतन्त्र के वास्ते भी और देश की राजनीति के वास्ते भी। अगर ऐसा ही कुछ यूपी मेँ होता तब! बीजेपी यूपी मेँ सबसे बड़े दल के रूप मेँ सामने आती तो बीजेपी को ही बुलाया जाता! उसी का हक बनता। मगर उत्तर से पूर्व की ओर जाते जाते लोकतन्त्र के मायने ही बदल गए। लाठी को हाथ मेँ ले सत्ता इस प्रकार हथियाई जाएगी, किसने सोचा होगा। राजनीति से नीति को निकाल फेंक दिया गया। राज को हासिल करने के लिए नैतिकता, मर्यादा सब को हवा मेँ उड़ा दिया गया। पूछे कौन? सवाल करने की हिम्मत किसकी है? सब देख रहे हैं। कोई कुछ बोलेगा तो भी कुछ नहीं होने वाला। ये तो कुछ भी नहीं एक छोटे से राज्य मेँ अपनी सत्ता को बनाए रखने के लिए विधायकों की इस मांग को भी मान लिया गया कि रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर को सीएम बनाया जाए। जिस नेता ने बढ़िया मंत्री के रूप मेँ देश भर मेँ पहचान बनाई। इज्जत कमाई। जिसने देश की सेना का मनोबल बढ़ाया। जिस मंत्री ने सेना मेँ नई ऊर्जा का संचार किया, उसे छोटे से राज्य मेँ भेज दिया गया। बात ये नहीं कि पर्रिकर जैसा रक्षा मंत्री बीजेपी के पास नहीं होगा। खूब होंगे। किन्तु कोई ये तो बताए कि राजनीति मेँ उज्ज्वल छवि के मनोहर पर्रिकर को क्यों एक छोटे से स्थान पर सीमित किया जा रहा है। इस बात से एक बड़ा प्रश्न भी लोकतन्त्र के सामने ही नहीं बीजेपी के सामने भी आ खड़ा हुआ है। आज तो गोवा विधायकों की डिमांड पर मनोहर पर्रिकर को केंद्र से हटा वहां भेजा गया है। कल को यह स्थिति गुजरात मेँ सामने आई तब क्या होगा! विधायकों ने ये डिमांड कर ली कि वे तो केवल नरेंद्र मोदी के साथ ही आएंगे। तब क्या बीजेपी नरेंद्र मोदी को पीएम पद से हटा गुजरात की कमान सौंप देगी? क्या ये संभव है? सवाल ही पैदा नहीं होता। कल्पना भी नहीं हो सकती। बीजेपी को कांग्रेस मुक्त भारत की अपनी सोच को आगे बढ़ाने की इतनी जल्दी है कि उसने गोवा और मणिपुर मेँ सत्ता का अपहरण करने से भी परहेज नहीं किया। यूपी जैसे बड़े राज्य की सत्ता भी उसे संतुष्ट नहीं कर पाई और सत्ता की अपनी भूख शांत करने के लिए वहां भी सत्ता पर कब्जा कर लिया जहां, पहला हक बड़े दल का था। बेशक, बीजेपी वाले खुशी मनावें। शानदार विजय के गीत गावें। परंतु लोकतन्त्र मेँ यह ठीक नहीं है। आज बीजेपी ने अपनी सत्ता के दम पर ये किया है, कल को दूसरे दल भी सत्ता के नशे मेँ ऐसा कर सकते हैं। बीजेपी की शान तो तब बढ़ती जब वह गोवा और मणिपुर दोनों मेँ चुनाव मेँ सबसे अधिक सीट लेने वाले दल को पहले सरकार बनाने का मौका देती। वो इनकार करती या असमर्थता जताती तब वह सामने आती और सरकार बनाने का दावा पेश करती। परंतु ऐसा करने की जरूरत ही महसूस नहीं की गई। झट से सत्ता का अपहरण करने की योजना बनी और सबकी आँखों के सामने यह सब हो गया। कोई कुछ नहीं कर सकता। किसी की हिम्मत नहीं। आज का लोकतन्त्र यही है। चार  लाइन पढ़ो-
वतन से इश्क की बात करते हो 
सड़े, गले पुराने दौर के लगते हो,
अपने मतलब की बात करो जनाब 
दिलों मेँ क्यों फिजूल की बात भरते हो। 


Friday 13 January 2017

naya yug

इक युग ऐसा भी आएगा 
राम को वन मेँ मारा जाएगा,
विभीषण होगा रावण का जासूस 
भरत रावण से हाथ मिलाएगा। 
कोई सीता श्रीराम के लिए 
कभी ना खुद को रुलाएगी,
रावण का हाथ पकड़
लंका की पटरानी बन जाएगी............[ जारी है]
[2g]