Wednesday 22 October 2008

कानून तोड़ने वाले का गरूर

----- चुटकी-----

कानून तोड़ने वाले का
तोड़ दो गरूर,
मनसे,सबसे कहता हूँ
भारत की सूरत
निखर जायेगी हजूर।

---गोविन्द गोयल

3 comments:

नारदमुनि said...

mere naye ghar
"ggkatanabana.blogspot.com"

समीर यादव said...

आपकी बात से सहमत सभी होंगे लेकिन करेगा कोई नहीं, इस कार्य में मराठी भाइयों को ही सबसे आगे आना चाहिए.

jayaka said...

kahate hai ki... billi ke gale mein ghanti kaun bandhe?...kanoon todanewalon saamana ek jut ho kar hi karana padega na Naaradmuni!