Saturday, 13 September, 2008

४०% वोट वाले को टिकट

दिल्ली में कांग्रेस के दिग्गज नेताओं ने "तय "किया है कि आगामी विधानसभा चुनाव में उन नेताओं को टिकट दी जाए जिन्होंने गत चुनाव में पोल हुए वोटों में से ४०% वोट मिले थे। अगर ये पैमाना लागु हुआ तो श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ में एक भी कांग्रेस उम्मीदवार पुराना नहीं होगा। यहाँ तक कि गत चुनाव में हनुमानगढ़ से विजयी रहे विनोद कुमार भी नहीं। क्योंकि उनको ३६.९८% वोट मिले थे। भादरा से कांग्रेस के संजीव कुमार को २१.६८%,नोहर से सुचित्रा को २४.५२%,टिब्बी से शंकर पन्नू को २६.७९%,संगरिया से के सी बिश्नोई को १८.४४%,गंगानगर से कांग्रेस के राधेश्याम गंगानगर को ३१.८७%,केसरीसिंहपुर से हीरा लाल indora को ३१.४५%,करनपुर से गुरमीत सिंह कुन्नर को ३०.९७%,पीलीबंगा से जगतार सिंह को २०.२६% तथा सूरतगढ़ से विजयलक्ष्मी बिश्नोई को २९.४५% वोट मिले थे। बात इस से पहले चुनाव अर्थात १९९८ की करें तो भी हालत ऐसे ही हैं। कांग्रेस ने दोनों जिलों की ११ सीट में से ९ सीट प्राप्त की। इनमे से राधेश्याम गंगानगर और हीरा लाल इंदौरा को ही ४०% से अधिक वोट मिले थे। १९९३ में केवल हीरा लाल इंदौरा ही थे जिन्होंने ४०% से अधिक वोट मिले। तब भैरो सिंह शेखावत को हराने वाले राधेश्याम गंगानगर को ३६% वोट मिले थे। कांग्रेस अपने पैमाने लगातार बदल रही है। अंत में उसको शायद एक ही पैमाना रखना पड़ेगा और वह होगा जिताऊ और जिताऊ बस। तब राधेश्याम गंगानगर,गुरमीत सिंह कुन्नर,दुला राम,महेंद्र सिंह बराड़ के भाग खुल सकते है।

No comments: