Sunday 7 September 2008

खेद जताया-कलेक्टर

श्रीगंगानगर- जिला कलेक्टर भवानी सिंह देथा का कहना है की उन्होंने आन्दोलनकारी पत्रकारों से तभी बात की जब दुर्व्यवहार करने वालों ने अपने व्यवहार पर खेद जताया। एक रिपोर्टर से बातचीत करते हुए श्री देथा ने कहा कि वार्ता के लिए यही शर्त थी। उन्होंने कलेक्ट्रेट में पत्रकारों को रोकने के लिए की गई नाकाबंदी को ग़लत नहीं माना। उनका कहना था कि पत्रकार जैसा आन्दोलन करेंगे वैसे ही इंतजाम होंगें। श्री देथा ने कहा कि पत्रिका शिवभान सिंह फ़ोन करके आए उनको नहीं रोका गया। उन्होंने इस बात को नहीं माना कि पत्रकारों के लिए ऐसी नाकाबंदी केवल श्रीगंगानगर में ही हुई है। लेकिन वे किसी दूसरी जगह का नाम नहीं बता सके। उन्होंने कहा कि वंचित पत्रकारों को भूखंड देने की कार्यवाही आरम्भ पहले ही कर दी गई थी। उधर कल सोमवार को पत्रकार नगर विकास न्यास के सचिव से मिलेंगे और वार्ता में दिए गए आश्वाशन को लिखित में लेंगे। अभी तक यह बात समझ नहीं आई कि पत्रकारों को जिला कलेक्टर से टकराने की राय किसने दी थी। क्योंकि भूखंडों का मामला न्यास से सम्बंधित है और वहां सरकार द्वारा मनोनीत अध्यक्ष है। जो भी कार्यवाही होनी है वहीँ से होनी है। खैर समझौता हो गया एक बार तो बात ख़त्म।

No comments: