Monday 22 September 2008

शोक के बहाने

---- चुटकी----
मंत्री जी का मर गया डॉग
सूरत दिखाने के बहाने
शोक मनाने
आए हजारों लोग,
एक दिन मंत्री जी चल बसे
अब कौन मनाये शोक?
--गोविन्द गोयल

3 comments:

परमजीत बाली said...

बढिया रचना प्रेषित की है।

Udan Tashtari said...

बहुत सटीक!!

seema gupta said...

एक दिन मंत्री जी चल बसे
अब कौन मनाये शोक?
" bhut khub, jo boya vo to kattna pdega na"

Regards