Thursday, 18 September, 2008

मौत पर हंगामा?

श्रीगंगानगर के जैन नर्सिंग होम आज शाम को एक प्रसूता की मौत हो गई। दोपहर को उसके ओपरेशन से बच्चा हुआ था। उसके बाद उसकी हालत बिगड़ती चली गई। उसके परिवार वालों ने शाम को नगर के कई प्रमुख लोगों को नर्सिंग होम में बुला लिया। आने वालों में जयदीप बिहाणी,बंशी धर जिंदल,गोपाल पांडूसरिया ,सीता राम शेरेवाला,तेजेंदर पाल सिंह टिम्मा आदि कई आदमी थे। महिला के परिजन मनीराम का कहना था कि उसके बेटे की पत्नी की मौत तो दिन में ही हो गई थी। अब तो डॉक्टर नाटक कर रहा है। डॉक्टरों ने कई जनों को मरीज की हालत दिखाने के लिए ओपरेशन थियेटर में बुला लिया। उन्होंने बाहर आकर यह कहा कि महिला की मौत नही हुई है। इस बीच बड़ी संख्या में पुलिस नर्सिंग होम के चारों और तैनात हो गई थी। कुछ देर बाद ही डॉक्टर ने महिला की मौत हो जाने की बात कह दी। कुछ क्षण पहले जो परिजन हाय तौबा मचा रहे थे वे डैड बॉडी लेकर रवाना हो गए । जब डैड बॉडी दी गई तब ना तो डॉक्टर आई के जैन और ना उनकी पत्नी डॉक्टर पी जैन वहां थीं। वहां कोई डॉक्टर संदीप चौहान था जो डॉक्टर दम्पती की पैरवी कर रहा था। उसने कहा कि वे टेंशन में थे इस लिए चले गए। यह नर्सिंग होम पहले भी कई बार सुर्खियों में आ चुका है। अनेक बार तो यह नर्सिंग होम के सामने पड़े कचरे के डिब्बों में अविकसित गर्भ मिलने की वजह से
सुर्खियों में रहा। हमने डॉक्टर जैन से बात करने की कोशिश की मगर डॉक्टर संदीप चौहान और अन्य ने कहा कि वे तो चले गए हैं। जिसके हॉस्पिटल में ऐसा कुछ हो रहा हो उसका चला जाना उचित है या नहीं यह पाठक तय करेंगें। पीड़ित परिवार गाँव ख्यालीवाला का रहने वाला है।

1 comment:

रंजन राजन said...

जिसके हॉस्पिटल में ऐसा कुछ हो रहा हो उसका चला जाना ....शक को पुख्ता करता है।