Tuesday 16 September 2008

दी गंगानगर क्लब

श्रीगंगानगर में कलेक्टर,एस पी के घर और ऑफिस के बीच में एक क्लब है नाम है दी गंगानगर क्लब। इस क्लब में आजकल सदस्यों में काफी तनातनी चल रही है। इस तनातनी का कारण है गेम। यह गेम इस क्लब के अधिकतर सदस्य खेलते है। कुछ मेंबर ने एक गुट बना रखा है वे दस रूपये पॉइंट खेलते हैं। चर्चा है कि इस गुट के मेंबर मिलकर अन्य सदस्यों के साथ खेलते थे। इस कारण बहुत से लोग उनका उनका शिकार बने। जब पोल खुली तो ऐतराज हुआ। क्लब अध्यक्ष संजय मुंदडा ने इस पर रोक लगाने के आदेश जारी किए। इस गुट ने अब कांग्रेस लीडर गंगाजल मील के बेटे शराब ठेकेदार महेंद्र मील के पास शरण ली। उसने उनको कह दिया कि आप खेलो,मैं देखता हूँ कौन रोकता है। पता चला है कि इस मामले में कार्ड सचिव ने अपना पद छोड़ दिया है।क्योंकि वह चाहता है कि उनका सिस्टम चलता रहे। लेकिन अब अधिकतर सदस्य इस गुट के खिलाफ हो चुके है। इस कारण इस गुट की पार नहीं पड़ रही। अध्यक्ष संजय मुंदडा दुविधा में है कि क्या किया जाए। क्योंकि वह राजनीति में भाग्य आजमाना चाहता है इसलिए वह किसी को नाराज नहीं करना चाहता। अध्यक्ष संजय मुंदडा ने बताया कि ऐसा कुछ नहीं है सब ठीक चल रहा है। पदाधिकारियों में फेरबदल होता रहता है। श्री मुंदडा ने कहा कि क्लब में घुटनों के इलाज का कैंप लगाया गया है। इसके अलावा जल्दी ही राज्य स्तरीय खेल प्रतियोगिता भी करवाई जायेगी। उनका कहना था कि इससे बच्चों को अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका मिलेगा। श्री मुंदडा के अनुसार क्लब बहुत ही अच्छे तरीके से चल रहा है। वे इसको सामाजिक रूप से अच्छा बनाना चाहतें हैं ताकि लोगों की क्लब के प्रति जो aisee वैसी सोच है उसको बदला जा सके।

2 comments:

हरि said...

इस तरह की छोटी खबरे देश दुनिया का दर्पण हैं। सजग रहिए। लिखते रहिए।

PREETI BARTHWAL said...

अपनी अपनी डपली अपना अपना राग
जिसका जोर चल सकता है वही अपना गेम खैलता है ऐसी जगह पर