Saturday, 13 September, 2008

किसको अंगूठे दिखाओगे


-----चुटकी----
कर्मचारियों को पटाने हेतु
यूँ खजाना लुटाओगी,
तो अगली बार
विरोधियों को
अंगूठे कैसे दिखाओगी।
----गोविन्द गोयल, श्रीगंगानगर

No comments: