Thursday 15 December 2011

मुद्दा एक,बयान अलग अलग,मीडिया ने जताया एतराज,प्रभारी मंत्री से कार्यवाही को कहा

श्रीगंगानगर-प्रस्तावित ओवर ब्रिज के निर्माण के बारे में जिला कलेक्टर की बयानबाजी पर मीडिया ने प्रभारी मंत्री विनोद कुमार के समक्ष एतराज जताते हुए उन पर फालतू के बयान देने पर रोक लगाने को कहा। प्रभारी मंत्री सरकार के तीन साल पूरे होने पर मीडिया को सरकार की उपलब्धि बता रहे थे। मीडिया ने एक स्वर में मंत्री को बताया कि जिला कलेक्टर अंबरीष कुमार कभी मिनी सचिवालय पुलिस लाइन के निकट बनाने की बात कहते हैं। कभी बस अड्डे को सूरत गढ़ रोड पर ले जाने की। इतना ही नहीं ओवर ब्रिज के संबंध में भी एक ही दिन दो अखबारों को अलग अलग बात कह कर जनता में भ्रम पैदा करते हैं। मीडिया ने कहा कि इससे उस क्षेत्र की जमीन के भाव बढ़ जाते हैं जहां जिला कलेक्टर मिनी सचिवालय,ओवरब्रिज,बस अड्डा बनाने का दावा करते हैं। मीडिया ने नगर विकास न्यास के चेयरमेन ज्योति कांडा और नगर परिषद सभापति जगदीश जांदू के विरोधाभाषी बयानों के बारे में प्रभारी मंत्री को बताया। ज्योति कांडा ने अपने अभिनंदन समारोह में ओवरब्रिज और सीवरेज कि कागजी कार्यवाही करार दिया। जबकि जांदू दो दिन बाद पत्रकार सम्मेलन में ओवरब्रिज और सीवरेज को अमली जामा जल्दी ही पहनाए जाने की बात करते हैं। अलग अलग बयानों से साफ है कि दोनों की एक पार्टी होने के बावजूद विकास के मुद्दे पर कोई तालमेल नहीं है। मीडिया ने प्रभारी मंत्री से कहा कि दोनों कांग्रेस के लीडर हैं। किन्तु एक मुद्दे पर दोनों के बयान भिन्न होने के कारण जनता में कांग्रेस की किरकिरी हो रही है। प्रभारी मंत्री ने मीडिया को भरोसा दिलाया कि वे जिला कलेक्टर से इस बारे में बात कर उनको फालतू की बयानबाजी करने से रोकेंगे। विनोद कुमार के साथ मौजूद विधायक संतोष सहारण ने भी मीडिया की बात को सही ठहराया। हालांकि जगदीश जांदू ने कलेक्टर की ओर से सफाई देने की कोशिश की मगर बात नहीं बनी। ज्ञात रहे कि ओवरब्रिज,सीवरेज,कलेक्ट्रेट,बस अड्डे के बारे में कोई ना कोई नई बात कहते रहते हैं।

No comments: