Monday 9 November 2015

टिम्मा ही कर सकते हैं जेल मेँ काम



श्रीगंगानगर। एक गुरुद्वारा  के मुख्य सेवादार तेजेन्द्र पाल सिंह टिम्मा सहित 6 व्यक्ति श्रीगंगानगर की केंद्रीय जेल के गैर सरकारी मेम्बर मनोनीत किए गए हैं। टिम्मा का मनोनयन मेँ बीजेपी नेता राधेश्याम गंगानगर ने करवाया है। लीला जी पर भी उन्ही का हाथ है। जुगल डूमरा अपने दम पर बन के आए होंगे । भरत मय्यर पर पता नहीं किसने दया की होगी। लेकिन प्रदेश के पूर्व उप मुख्य सचेतक रहे ओ पी महेन्द्रा भी इस कमेटी मेँ हैं। उनका मनोनयन राजनीतिक रूप से हजम ना होने वाली बात है। जो नेता मंत्री स्तर तक की पोस्ट पर रह चुका हो, उसके लिए ये कमेटी तो कुछ भी नहीं है। महेन्द्रा जी के  राजनीतिक कद का तो सत्यानाश ही कर दिया गया। टिम्मा और लीला को तो ऐसे मनोनयन की जरूरत ही थी। खास कर टिम्मा को। जो स्टेट और नेशनल लेवल के सरकारी अवार्ड लेने की कोशिश मेँ हैं। इसके लिए लगातार प्रयास भी कर रहे हैं। इस के लिए वे बहुत कुछ कर रहे हैं, मगर पिछला रिकॉर्ड उनका वर्तमान रिकॉर्ड खराब कर देता है। ये सभी जेल मेँ क्या करेंगे पता नहीं, लेकिन ये जरूर है कि इस कमेटी मेँ सबसे अधिक काम टिम्मा ही करेंगे। उनके पास टीम भी है और जज्बा भी। बाकी तो टिम्मा का हाथ पकड़ के चलते दिखाई देते हैं। क्योंकि इनमें से किसी की हिम्मत नहीं जो टिम्मा की बात को नकार सकें। 

No comments: