Monday 28 September 2009

मैडम की भक्ति में मनमोहन मस्त

----- चुटकी-----

महंगाई के रावण से
जनता हो गई त्रस्त,
मैडम की भक्ति में
मनमोहन जी मस्त,
उनकी कुर्सी बची हुई है
भज मैडम का नाम,
रावण का वध करने को
अब,कहाँ से लाएं राम।

5 comments:

shikha varshney said...

Ha ha ha ha a...sahi baat..maja aa gaya.

राज भाटिय़ा said...

अजी मेडम नराज तो कुरसी भी गई, इस लिये बक्ति जरुरी है
आप को ओर आप के परिवार को विजयादशमी की शुभकामनांए.

pankaj vyas said...

narayan... narayan...

naveentyagi said...

पुन्य से अब पाप का, छिड़ने दो संग्राम।
धरती को शायद मिले, फ़िर से कोई राम॥

editor, sarwahara said...

But, whom does Madam worship? Can you answer, please