Wednesday 23 September 2009

देश का सौदा कर प्यारे

---- चुटकी----

गाँधी जी के
पद चिह्नों पर चल प्यारे,
दूसरा गाल भी
चीन के आगे कर प्यारे।
अहिंसा परमो धर्म है
रटना तू प्यारे,
एक तमाचा और
तुम्हारे जब मारे।
ये बटेर हाथ में
तेरे फ़िर नहीं आनी है,
लगे हाथ तू
देश का सौदा कर प्यारे।

7 comments:

M VERMA said...

अच्छा चुटकी लिया है आपने
बहुत खूब

pankaj verma said...

apne desh mein aisa hi hota hai. hamare pyare kabhi sudhrane wale nahi hai.

विनोद कुमार पांडेय said...

वाह, मजेदार...
अच्छा चुटकी!!!

पी.सी.गोदियाल said...

वाह, मेरे दिल की बात कह डाली नारद जी, नारायण नारायण !

Murari Pareek said...

gandhiji ban pyaare !!! din me dikh jayenge tare!!

shikha varshney said...

bahut khub...achchi chutki hai.
ekdam Narad Muni style ki ..Narayan Narayan.

'अदा' said...

बेशक गाँधी जी के
पद चिह्नों पर चल प्यारे,
पर जब थप्पड़ खाना हो
गाँधी जी को आगे कर प्यारे.....

बहुत लाजवाब चुटकी
हम तो आज पहली बार
आपके ब्लाग पर आये हैं.....
और आकर बहुत पछताए हैं ..
कि इतना दिन हम कहाँ बिताएं हैं ...
कितना कुछ हम गवाएं हैं...