Friday 25 September 2009

केवल पिसे गरीब

श्री कबीर जी ने कहा था---

चलती चक्की देख कर
दिया कबीरा रोए,
दो पाटन के बीच में
साबुत बचा न कोए।

आज के संदर्भ में ---

चलती चक्की देखकर
अब रोता नहीं कबीर,
दो पाटन के बीच में
अब केवल पिसे गरीब।

11 comments:

POTPOURRI said...

such kaha aapne. meri kavita par aapki tippani ke liye dahnyawad

विनोद कुमार पांडेय said...

आज की हालत तो यही है,
बढ़िया प्रस्तुति!!!

M VERMA said...

सही कहा है आज का हालात तो यही है

विपिन बिहारी गोयल said...

sahi kaha aapne

डॉ टी एस दराल said...

सच है. मंदी हो या तेजी, अमीर को क्या फर्क पड़ता है. पिसता तो गरीब है.

gita said...

चलती चक्की देख
रोया आज भी कबीर
मिलावट को पीस दिया
दो पाटन के बीच
सारा देश ही पीस गया
क्या आमिर क्या गरीब

S B Tamare said...

very smart!

vinod ranka said...

bahoot achhe narad muni ji waise main bhi ek chota sa rangkarmi hoon aap se jud kar parsannata hoogi or itane achhe lekhan ke liye sadhuwad

shikha varshney said...

Wah kamal ka sach.........

naveentyagi said...

narayan-narayan

Roshani Sahu said...

Naradmuni ji sabse pahle to aapko hamare blog me aane ka shukriya.
Apka aashirwad ham par sada bane rahe iski tammnna hai.
Apke sare hi article bahut hi behtrin hai.
Narayan narayan kahte aate hain aap,
kam shabdo me bahut kah jate hain aap
Apka hardik abhinandan.