Sunday 20 September 2009

श्रीगंगानगर टैक्स बार को सलाम

एक एडवोकेट की मौत हो गई। अब अन्य एडवोकेट तो यही सोचेगें कि उसके क्लाइंट हमारे पास आ जाएं। यह तब तो और भी अधिक होता है जब मरने वाले वकील के यहाँ कोई ऐसा उत्तराधिकारी नहीं होता जो उसका काम संभाल सके। किन्तू श्रीगंगानगर टैक्स बार संघ अब ऐसा नहीं होने देगा। इसी सप्ताह संघ के मेंबर वकील हनुमान जैन का निधन हो गया। इनके पिता जी भी नहीं है। बेटा वकालत कर रहा है। इस स्थिति में श्री जैन के क्लाइंट इधर उधर हो जाने स्वाभाविक हैं। इस से श्री जैन का पूरा काम समाप्त हो जाने की आशंका थी। टैक्स बार संघ ने बहुत ही दूरदर्शिता पूर्ण निर्णय किया। अब कोई दूसरा वकील वह फाइल नहीं लेगा जो हनुमान जैन के पास थी। संघ श्री जैन के बेटे का कर सलाहाकार के रूप में पंजीयन करवाएगा। संघ की ओर से चार वकील उसके मार्गदर्शन,काम सिखाने,समझाने और क्लाइंट को संतुष्ट करने के लिए हर समय तैयार रहेंगें। जिस से कि कोई क्लाइंट किसी अन्य वकील के पास जाने की न सोचे या उसे दूसरे के पास जाने की जरुरत ना पड़े। इसके बावजूद अगर कोई क्लाइंट अपनी फाइल श्री जैन से लेकर अन्य को देना चाहे,आयकर,बिक्रीकर की रिटर्न भरवाना चाहे तो वकील ऐसा कर देंगे किन्तू उसकी फीस श्री जैन के उत्तराधिकारी उसके बेटे को दी जायेगी। टैक्स बार श्री हनुमान जैन को तो वापिस नहीं ला सकता लेकिन उसने इतना जरुर किया जिस से उनके परिवार को ये ना लगे कि वे इस दुःख की घड़ी में अकेले रह गए। वकील समुदाय उनके साथ खड़ा है।

वर्तमान में एक दूसरे को काटने,काम छीनने,नीचा दिखाने की हौड़ लगी है तब कुछ अच्छा होता है, अच्छा करने के प्रयास होते हैं तो उनको सलाम करने को जी चाहता है। नारदमुनि तो टैक्स बार के अध्यक्ष ओ पी कालड़ा,सचिव हितेश मित्तल,संयुक्त सचिव संजय गोयल सहित सभी पदाधिकारियों को बार बार सलाम करता है। उम्मीद है कि उनकी सोच दूर तक जायेगी। देश के दूसरे संघ भी इनसे प्रेरणा लेंगे।

9 comments:

Vivek Rastogi said...

एक अच्छी शुरुआत ।

अशोक मधुप said...

काश सभी इससे शिक्षा लें

lalit sharma said...

घणो चोखो लाग्यो थारो काम,आईंया ही होणो चाहिजे काम,आगला का भी टाबर पल जासी,आतो हिन्दुस्तान में मिसाल कायम कर दी थे तो,

lalit sharma said...

आतो रिकार्ड करयो जाए मी लार्ड आतो रिकार्ड करयो जाए मी लार्ड

Nitish Raj said...

सबसे बड़ी जरूरत है एक पहल करने की जो हो चुकी है।

हेमन्त कुमार said...

"बात निकलेगी तो फिर दूर तलक जायेगी "
आभार ।

S B Tamare said...

''chokhi bat hai!

it seem humanity is still alive in our society. good example should be welcome always to follow in this regard your post is quite successful.thanks a lot.

S B Tamare said...

it seems that the humanity is still alive in our society that is being disappeared. it is nice of you, as you explored incident well. we should keep trying for such type of example to set ahead to follow. this one is quite efficacious.thanks a lot for good post.

S B Tamare said...

dear sir
it so happened i could not understood the mistake and done remarks two time for the same one.
please efface any one as you like !
thanks!