Saturday 28 January 2012

संघ प्रष्ठभूमि वाले ट्रस्टियों के कालेज में कांग्रेसियों का जमघट


श्रीगंगानगर-आरएसएस से जुड़े व्यक्तियों की मैनेजमेंट वाले कॉलेज में कांग्रेस नेताओं की उपस्थिति ने सबको हैरत में डाल दिया। वैसे तो कोई भी शिक्षण संस्था किसी पार्टी विशेष की नहीं होती। किन्तु उस संस्था को चलाने वाले कौन है उनकी पहचान,विचारधारा का जिक्र तो होता ही है। जिस आत्मवल्लभ जैन गर्ल्स कॉलेज का जिक्र यहां है,उससे कांग्रेस सरकार के मंत्री इसीलिए दूरी रखते थे कि कॉलेज के अधिकांश ट्रस्टी सक्रिय रूप से आरएसएस से जुड़े हैं। अमरचंद बोरड़ के पास तो आरएसएस के दायित्व तक रहें हैं। इस बार राजस्थान की कांग्रेस सरकार के वरिष्ठ मंत्री शांति धारीवाल, विधायक संतोष सहारण कांग्रेस के पूरे लवाजमे के साथ वहां पहुंचे हुए थे। जिस कृषि विपणन मंत्री गुरमीत सिंह कुन्नर ने गत वर्ष उतसव में आने से मैनेजमेंट को इंकार कर दिया था इसबार उन्हे शांति धारीवाल के कारण वहां आना पड़ा। जबकि कार्ड पर उनका नाम तक नहीं था। जब नगरीय विकास मंत्री नगर में हों तो नगर परिषद के सभापति और नगर विकास न्यास के अध्यक्ष को भी हाजिरी लगानी पड़ी। उनके साथ कई छोटे बड़े कांग्रेस नेता कार्यकर्ताओं का पहुँचना भी स्वाभाविक है। वैसे सभापति और अध्यक्ष 29 जनवरी के कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में आमंत्रित हैं। मंत्री शांति धारीवाल ने कॉलेज में नई लाइब्रेरी का उदघाटन किया। दो दो मंत्री सहित कांग्रेस नेताओं का जैन कॉलेज में जमघट मैनेजमेंट की बड़ी उपलब्धि कही जा सकती है। क्योंकि इससे पहले सत्तारूढ़ पार्टी के इतने बड़े नेता कभी कॉलेज में शायद ही आयें हों।

No comments: