Friday, 8 January, 2010

ये सच है या आँखों में कोई खोट

झूठ,फरेब,लूट,खसोट
बेईमानी,भ्रष्टाचार
गन्दी राजनीति
आतंकवाद और
उस पर
महंगाई की चोट,
ये सच है
या है मेरी
आँखों में कोई खोट।

3 comments:

निर्मला कपिला said...

नारायण नारायण आपकी आँखों मे कोई खोट नहीं हो सकता सब सही है शुभकामनायें

डॉ. मनोज मिश्र said...

ये सच है .

Ankit.....................the real scholar said...

sach hai
kadwa hai parantu sach hai

you are here by requested to visit
www.ankitkumarpandey.blogspot.com