Sunday 11 October 2009

बच गए महात्मा गाँधी

बच गए अपने महात्मा गाँधी। वरना आज कहीं मुहँ दिखाने लायक नहीं रहते। घूमते रहते इधर उधर नोबल पुरस्कार को अपनी छाती से लगाये हुए। क्योंकि वे भी आज बराक ओबामा के साथ खड़े होने को मजबूर हो गए होते। बच कर कहाँ जाते। उनको आना ही पड़ता। अब कहाँ अपने लंगोटी वाले गाँधी और कहाँ हथियारों के सौदागर,अमन के दुश्मन,कई देशों पर बुरी निगाह रखने वाले,पाक के सरपरस्त अमेरिकी प्रेजिडेंट बराक ओबामा। गाँधी जी के साथ खड़े होकर ओबामा की तो बल्ले बल्ले हो जानी थी।
बराक ओबामा को नोबल पुरस्कार की घोषणा के बाद अब यह बात मीडिया में आ रही है कि हाय हमारे गाँधी जी को यह ईनाम क्यों नहीं मिला। कोई इनसे पूछने वाला हो कि भाई क्या हमारे गाँधी जी को उनके शान्ति के प्रयासों के लिए किसी नोबल ईनाम वाले प्रमाण पत्र की जरुरत है! गाँधी जी तो ख़ुद एक प्रमाण थे शान्ति के, अहिंसा के। उनको किसी ईनाम की आवश्यकता नहीं थी। बल्कि नोबल शान्ति पुरस्कार को जरुरत थी गाँधी जी की चरण वंदना करने की। तब कहीं जाकर यह नोबल और नोबल होता। गाँधी जी तो किसी भी पुरस्कार से बहुत आगे थे। इसलिए यह गम करने का समय नहीं कि गाँधी जी को यह ईनाम नहीं मिला। आज तो खैर मनाने का दिन है कि चलो बच गए। वरना बराक ओबामा और गाँधी जी का नाम एक ही पेज पर आता, शान्ति के पुजारी के रूप में। नारायण नारायण।

7 comments:

विनोद कुमार पांडेय said...

सही कहा ओबामा से तुलना होने लगती फिर तो गाँधी जी की भी..

Udan Tashtari said...

नारायण!! नारायण!! जरा सा से बच गये.

Suman said...

manviy sabhyta mein ab tak ka sabse bada uphass kasai khane k incharge ko noble shanti purashkaar se navaja gaya hai mera aapse nivedan hai ki marnouprant hitlar aur musolini ko bhi noble shanti purashkaar k liye namit karne ka prayash kiya jaye yadi aap thoda sa prayash karein to ham aap milkar hiroshima aur nagashakhi k upar bomarment karne vale pilots ko bhi shanti ka masheeha ghoshit kar dein . sir yadi aap prayash karte hai to main bhi aap k peeche peeche prayash karoonga

हेमन्त कुमार said...

यही युगधर्म है भाई !
आभार ।

shikha varshney said...

वाकई शुकर है खुदा का.बच गए हमारे बापू.......

Devendra said...

नारायण-नारायण

gita said...

बापू को जो पुरस्कार मिला वह किसी नोबल पुरस्कार से बहुत बडा हे वह पुरस्कार है (साबरमती का संत )एक महात्मा आजकी हर आत्मा खुद को महान आत्मा कहलवाना चाहती है चाहे ओबामा हो या ओसामा पर महात्मा तो हमारा गांधी ही रहे गा कोई और नही
साबर मती के संत वाकयी किया तुने कमाल