Monday 5 October 2009

आ जाओ अपने देश


सजनी के प्यारे सजना
रहते हैं परदेश,
वहीँ से भेजा सजना ने
सजनी को संदेश,
तुम्हारे लिए मैं क्या भेजूं
दे दो ई मेल आदेश,
साजन की प्यारी
सजनी ने
भेज दिया संदेश,
रुखी-सूखी खा लेँगे
आ जाओ अपने देश।

7 comments:

महेन्द्र मिश्र said...

सजनी - सजना ?
नारायण नारायण आप किस मोहपाश में जकड गए जी

विनोद कुमार पांडेय said...

वाह..बहुत खूब चार लाइन में बहुत बढ़िया भाव...सुंदर गीत..बधाई

शुभम जैन said...

apna desh to bhai apna hi hai...sudar bhav...


*******************************
प्रत्येक बुधवार सुबह 9.00 बजे बनिए
चैम्पियन C.M. Quiz में |
*******************************
क्रियेटिव मंच

usha rai said...

युगों युगों से चल रही सजनी की ,
पुकार ....सजन आ जायेंगे क्या ?
नारायण ! नारायण ! नारायण !

Dipak 'Mashal' said...

are sir ye hum donon ke beech ki baat aapne kab sun li?????????

Satya.... a vagrant said...

jis sajni ke sajna videsh ja sakte hain we desh me bhi kaa lenge..
rukhi sukhi ki jarurat nahi padegi
narayan narayan.

ye air hostess wale samachar per koi chanika abhi tak nahi aayi apki .

Dipak 'Mashal' said...

are aap ye to bataiye ham do logon ke beech ka vartalap aapne kab, kaise sun liya aur sun bhi liya to jag jahir nahin karna tha devarshi.