Monday 8 June 2009

कलेक्टर था तो क्या......

ख़बर---श्रीगंगानगर में सात दिनों से जिला कलेक्टर नहीं !
टिप्पणी--- जिला कलेक्टर था तो क्या खास बात थी !

श्रीगंगानगर के जिला कलेक्टर राजीव सिंह ठाकुर एक केन्द्रीय मंत्री के निजी सचिव बन गए। राजस्थान सरकार ने अभी तक नया कलेक्टर नही लगाया है। इस बात को सात दिन हो गए।

5 comments:

bhawna said...

kisi ko kya padi hai ki janta ko, uski samasyaaon ka dhayaan rakhe aur fir ye ummed sarkaari tantra se karna fijool hi hai ? unki najar me samay ki barbaadi . hum janta pahle bhi bhagwaan bharose thi aur aaj bhi hain aage ki bhi bhagwaan hi jaane .:(

डॉ. मनोज मिश्र said...

किसको फिक्र है .

Ratan Singh Shekhawat said...

कोई आ भी जायेगा तो कौनसा पहाड़ खोद देगा ?

राज भाटिय़ा said...

किसी नेता वेता का ही रिशतेदार बन कर आ जायेगा, अभी नेता जी सोच रहे होगे किस रिश्ते दार का बेटा .........?

Anil Pusadkar said...

बिना ड्राईवर के रेल है ये देश कोई हो या ना हो,खास फ़र्क़ नही पड़ता।