Thursday 13 October 2011

समय के मारे हैं


समय के मारे हैं इसलिए बेचारे हैं।

वरना चाहने वाले तो हमारे भी

आपके जैसे बहुत सारे हैं।

No comments: