Thursday 8 September 2011

दामाद ने की ससुर की हत्या खुद पहुँच गया थाने

श्रीगंगानगर-गाँव चार जैड प्रथम में एक व्यक्ति ने तेज धारदार अथियर से अपने ससुर की हत्या कर दी। फिर खुद ही साईकिल पर वह थाने पहुँच गया। ससुर हरबंश कुल्चानिया और उसके दामाद वेद प्रकाश की ढाणी पास पास है। वेद प्रकाश के बच्चे नाना के घर आये हुए थे। यहीं हरबंश का भतीजा भी आया हुआ था। बच्चे कुछ दिन नाना के पास ही रहना चाहते थे। क्योंकि वेद प्रकश उनसे मार पीट करता था। हरबंश के परिवार ने उसको समझाया भी। लेकिन वह अपनी आदत से बाज नहीं आया। दोपहर को बच्चे अपने घर पुस्तकें लेने गए तो वेदप्रकाश ने उनको नाना के घर वापिस नहीं जाने दिया। बच्चों ने बहार आकर नाना को आवाज लगे। इस पर हरबंश अपने भतीजे के साथ वेदप्रकाश के घर आ गया। बच्चों के ले जाने ना लेजाने के मामले में दोनों में तकरार हो गई। वेद प्रकाश कस्सी लेकर आया और अपने ससुर के सर पर वार किया। हरबंश नीचे गिरा तो वेद प्रकाश ने पैरों पर भी कस्सी से वार किये। पुलिस को क्सुचना मिली। हरबंश को हस्पताल में भर्ती करवाया गया। जहाँ उसकी मौत हो गई। इधर वेदप्रकाश साईकिल पर कोतवाली पहुँच गया। जहाँ से उसे जवाहर नगर थाना ले जाया गया। वेद प्रकाश पहले बी एस एफ में था। डेढ़ दशक तक नौकरी करने के बाद उसने वह नौकरी छोड़ दी थी। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है।

No comments: