Sunday, 4 September, 2011

चाह गई चिंता मिटी मनवा बेपरवाह
जिसको कुछ नहीं चाहिए वो ही शहंशाह

No comments: