Sunday 17 July 2011

रिमझिम रिमझिम

रिमझिम रिमझिम
पड़ता रहा मेह,
लिपटे रहे
एक दूजे से
बढ़ता रहा नेह।

No comments: