Sunday 8 February 2009

पाक,तालिबान,जेहाद और कसाब

---- चुटकी----

पाक,तालिबान,
जेहाद और कसाब,
इसके सिवा
न्यूज़ चैनलों में
और
क्या है जनाब।

4 comments:

Anil Pusadkar said...

विज्ञापन और दूसरे चैनलो का हिसाब-किताब्। भई वाह,सटीक लिखा आपने।

इष्ट देव सांकृत्यायन said...

अरे अभी बहुत कुछ है जनाब! भूत, प्रेत, हत्या, नेताओं के बयान और कई ऐसी भी चीज़ें जो कहे जाने लायक ही नहीं हैं.

रंजन said...

बहुत कम शब्दों में आपने पूरी बात कह दी...नारायण नारायण

अभिषेक ओझा said...

चाँद और फिजा की मुहब्बत :-)