Sunday 11 January 2009

क्या मंदा है श्रीमान

---- चुटकी-----

मंदा मंदा मंदा
क्या मंदा है श्रीमान,
जिसके बिना
ना काम चले
वह महंगा सब सामान,
रोटी महँगी
कपड़ा महंगा
महंगा है मकान,
मंदा मंदा मंदा
क्या मंदा है श्रीमान।

6 comments:

Alag sa said...

चुटकी नहीं चिकोटी है।

विवेक सिंह said...

खींचते रहो . कुछ नहीं मंदा होने का :)

राज भाटिय़ा said...

यह मंदा इन नेताओ का ही दिया धंधा है

Zakir Ali 'Rajneesh' (S.B.A.I.) said...

बढिया चुटकी है, बधाई।

'Yuva' said...

''स्वामी विवेकानंद जयंती'' और ''युवा दिवस'' पर ''युवा'' की तरफ से आप सभी शुभचिंतकों को बधाई. बस यूँ ही लेखनी को धार देकर अपनी रचनाशीलता में अभिवृद्धि करते रहें.

अभिषेक ओझा said...

बहुत सही !