Tuesday 26 October 2010

एक दिन के महाराज


करवा चौथ की
हमको तो
समझ आती है
यही एक बात,
बस, एक
दिन की
चांदनी
फिर अँधेरी रात।
----
एक दोस्त है, सालों से पत्नी के लिए करवा चौथ का व्रत रखता है। बड़ा प्रभावित रहा आज तक। कितना मान करता है पत्नी का। उसके साथ खुद भी भूखा रहता है। बहुत प्रशंसा करता उसकी। कल रात को भी की थी। असली कहानी आज समझ आई। वह व्रत अपनी मर्जी से या पत्नी की सहानुभूति के लिए नहीं रखता। व्रत रखना उसकी मज़बूरी है। क्योंकि पत्नी या तो सजने संवरने में लगी रहती है या व्रत भंग ना हो, इस वजह से कुछ काम नहीं करती। तब पति क्या करता। एक दो साल तो देखा। बाज़ार में कुछ खाया। लेकिन बात नहीं बनी । उसके बाद उसने भी व्रत रखना आरम्भ कर दिया। मैंने खुद देखा सुना। पति बोला, सुनो मेरी शर्ट में बटन लगा दो ऑफिस जाना है। पत्नी कहने लगी, मेरा तो आज करवा चौथ का व्रत है। सुई हाथ में नहीं लेनी या तो खुद लगा लो या फिर दूसरी शर्ट पहन लो। ऐसी स्थिति में कोई क्या करे! व्रत करे और क्या करे। पत्नी भी खुश शरीर को भी राहत।

3 comments:

जितेन्द्र ‘जौहर’ Jitendra Jauhar said...

हाऽऽ...हाऽऽ...हाऽऽ...!
मज़ा आया पढ़कर...बधाई!

राज भाटिय़ा said...

मजे दार जी, बहुत खुब, आप भी आईये रोहतक स्वागत हे आप का

ZEAL said...

.

बढ़िया व्यंग ।

राज की बात -- मैने एक दिन पहले ही पेंडिंग बटन टांक दिए थे ।

.