Saturday 2 October 2010

तुझे पराई क्या पड़ी

मसला तो हिन्दूस्तान का है और पेट में दर्द हो रहा है पाकिस्तान के। इस बारे में तो यही कहना ठीक रहेगा।

ओरों के घर
के झगड़े
ए रावण
ना छेड़ तू,
तुझे पराई
क्या पड़ी
अपनी
नीबेड़ तू।

2 comments:

उपेन्द्र कुमार सिंह said...

नारयण नारायण!!!!!!!!!!
देवऋषि नारद जी..........
आपकी बात रावण मान लेता तो
सही रहता..........खैर भगवान उसे
सदबुद्धि दें..........

राज भाटिय़ा said...

पडोसी का बेटा किसी ऊंची पदवी पर लग जाये तो दुसरे पडोसी को जलन होती है, आज भारत के लोग मिल जुल कर एक हो रहे हे तो पडोसी को यह शांति नही भाती, इस लिये उसे मिर्चे लगी रही है, दुसरे की फ़टी मै टांग अडाने वाला अपने ही दांत तुडवाता है जी