Saturday 29 August 2009

एनसीसी कैडेट या वेटर?कमेंट्स प्लीज़

videoश्रीगंगानगर में आज हुए एक प्रोग्राम में एनसीसी कैडेट्स की वेटर के रूप में सेवा ली गई। इन कैडेट्स से चाय और कोल्ड ड्रिंक बंटवाया गया। जबरदस्त गर्मी में पसीने से लथ- पथ ये कैडेट्स वेटर की भांति प्रोग्राम में आए लोगों को चाय ठंडा बांटते रहे। किसी ने भी इनको इस काम से नहीं रोका। मेरे अपनी राय में एनसीसी कैडेट्स का काम कम से कम चाय ठंडा सर्व करना तो नहीं हो सकता। अगर इस प्रकार के संगठन से जुड़े युवकों से यह काम करवाया जाएगा तो आ गई उनमे देश प्रेम की भावना। ठीक है भारत में सेवा करने से मेवा मिलती है। किंतु सेवा किस की करने से मेवा मिलती है यह भी तो सोचना और देखना है।

7 comments:

इष्ट देव सांकृत्यायन said...

ठीक कहते हैं. सेवा किसकी की बात है तो इस लिहाज से अगर मंत्री-वंत्री आए हों तो चल सकता है. क्यों?

Udan Tashtari said...

अफसोसजनक है!!

Nitish Raj said...

स्कूलों में आपको ये बहुत दिख जाएगा पर सच गलत हैं।

राजन अग्रवाल said...

ye sewa nahi aaj ka sach hai, we bhi mana nahi kar pate. kyonki unhe bhi to grade chahiye hi hain... kya karen, virodh ki aadat hi khatm hoti jaa rahi hai.... upar se niche tak,, har kahin yahi mahol hai...

वाणी गीत said...

शिक्षकों का खाना पकाना भी नहीं बनता है ...मगर बनाते हैं ..सरकारी नीतियों की कृपा से ..!!

Vivek Rastogi said...

सरकारी सोच बदलना पड़ेगी, नौकरशाहों को कौन समझाये....

RAJENDER SONI Gen.Secy. Rajasthan Pradesh Congress commitee obc cell said...

sooo wonder on dis..