Thursday, 6 August, 2009

सरकार नींद में,जनता अचेत

---- चुटकी-----

सरकार नींद में
जनता अचेत,
सब्जी,दाल,चीनी
हाथ से ऐसे
निकल गई,
जैसे
बंद मुट्ठी से रेत।

6 comments:

परमजीत बाली said...

बहुत बढिया सामयिक रचना है।बधाई।

हेमन्त कुमार said...

बहुत खूब...।

Science Bloggers Association said...

Bahut Badhiyaa.
-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

संजय बेंगाणी said...

नारायण..नारायण...सॉरी जय हो.. जय हो...

somadri said...

sarkar....
jugad batayen

http://som-ras.blogspot.com

उसका सच said...

आ जनता अचेत..सुख गया खेत..नारायण..नारायण..क्या हाल है नारद जी..