Thursday 9 July 2009

सबसे बड़ा बोझ

श्रीगंगानगर से कुछ किलोमीटर दूर एक गाँव के एक मकान के बाहर हर वर्ग के लोगों की भीड़, इसके बावजूद वहां सन्नाटा पसरा हुआ था। लोग बोलते भी थे तो एक दूसरे के कान में। खामोशी और सन्नाटे को, या तो आस पास के पेड़ों,मुंडेरों पर बैठे,आते जाते,उड़ते पक्षियों की चहचाहट तोड़ती या फ़िर चर्र,चूं। यह चर्र,चूं उन लोहे की पाइप की थी जिन पर चाँदनी बंधी थे,धूप से बचाव के लिए। हवा के झोंके से पाइप हिलती तो वह चर्र ,चूं बोलकर सन्नाटे तो तोड़ देती।हवा में उल्लास नहीं था। बस, उसके होने का पता लग रहा था। कभी कभी किसी के मोबाइल फोन की घंटी भी खामोशी को भंग कर देती थी। घर के बच्चों पर इस माहौल का कोई असर देखने में नहीं आया। मौत के नाम से अंजान बच्चे अपनी मस्ती में मस्त होकर खेल रहे थे,उनकी मासूम खिलखिलाहट इस बात की गवाही दे रही थी कि सचमुच बचपन हर गम से बेगाना होता है। बचपन को क्या मालूम कि आज सवेरे सवेरे उनके घर में इतने सारे लोग चुपचाप सर झुकाए क्यों बैठें हैं? बर्फ पर रखी जवान लाश का अर्थ इस बचपन को क्या मालूम! इसका मतलब तो वह जाने जिसने अपना बेटा खोया या वह औरत जिसने अपना पति। शोले फ़िल्म में ऐ के हंगल का एक डायलोग है-सबसे बड़ा बोझ होता है, बाप के कंधे पर बेटे का जनाजा। यही बोझ हमारे परिचित को उठाना पड़ा।जवान बेटे की मौत के गम में जब करतार सिंह बराड़ को बिलखते देखा तो पत्थर दिल की आँखे भी नम हो गई। ऐसे गमजदा माहौल में किसको किस प्रकार, किन शब्दों में सांत्वना दी जाए! बेशक देश में इस से भी अधिक दर्दनाक मौत हर रोज होती है, लेकिन मन उसी के लिए दुखता है जिस से किसी भी प्रकार का परिचय हो। असल में तो दुःख,शोक,गम,खुशी ही परिचय पर है। जिसको जानते हैं उसी के सुख-दुःख हमें अपने लगाते हैं। करतार सिंह बराड़ से आपका परिचय नहीं, मगर यहाँ ये जरुर कहना चाहूँगा कि जिसका भी हाथ इन्होने पकड़ा,उसको ख़ुद नहीं छोड़ा। बेटे का हाथ इनके हाथ से कैसे छूट गया ये सर्वशक्ति मान भगवन के अलावा कौन जान सकता है। क्योंकि होना तो वही है जो वह चाहता है। इन्सान तो केवल प्लान बनता है। कब, क्या, कैसे,कहाँ,किसके साथ क्या कुछ होगा वही जानता है।

7 comments:

seema gupta said...

bhut dukh hua ye khabar pdh kr, bhagwan unhe sahnshakti de is gum se jujhne ki or unke bete ki aatma ko shanti.

regards

Murari Pareek said...

सच् बाप के कंधे पर जवान बेटे का जनाजा !! दुःख की अंतिम सीमा होती है !! फिर भी जीना तो पङता है!! समय के साथ सब भूल जाते हैं ! पर माँ युगों तक जवान बेटे की मौत नहीं भूल पाती !! परमात्मा दिवंगत की आत्मा को शांति और परिजनों के अंत:करण को दुःख भुलाने की शक्ति प्रदान करे!!

राज भाटिय़ा said...

भगवान ना करे किसी बाप को यह दिन देखना पडे

Udan Tashtari said...

अति दुखद..मगर यह भी सत्य है कि होना तो वही है जो वह चाहता है. इन्सान तो केवल प्लान बनता है.

Dhiraj Shah said...

बाप के कन्धे पर बेटे का जनाजा यही सबसे बडा बोझ है

jamos jhalla said...

JAWAAN BETE KI MOUT SE PITAA KE DUKH KAA BAHUT HI MAARMIK CHITRAN .KALYUG MAI YE SHAASHWAT SATYA BANTAA JAA RAHAA HAI.
ANGREZI-VICHAR.BLOGSPOT.COM
JHALLE VICHAR.BLOGSPOT.COM
JHALLI-KALAM-SE

डॉ. मनोज मिश्र said...

होहिहै वही जो राम रची राखा....