Friday 13 March 2009

लोकतंत्र हजम नहीं होता

----- चुटकी-----

हम समझ गए
पाक, तू पेट
पकड़ कर
क्यों रोता है,
असल में तेरे
लोकतंत्र
हजम नहीं होता है।

3 comments:

Udan Tashtari said...

हाजमा खराब है भई उनका.

समयचक्र - महेन्द्र मिश्र said...

क्यों ? कोई पेशेंट नहीं है सब बढ़िया खा कमा रहे है . नारायण नारायण आभार

राज भाटिय़ा said...

अजी अब तो लगता है इसे केंसर हो गया है, जिस का कोई इलाज नही. बहुत सही लिखा आप ने धन्यवाद