Saturday, 20 November, 2010

कला में अपार सम्भावना


श्री आत्म वल्लभ जैन कन्या महाविद्यालय की स्टूडेंट यूनियन ने आज महाविद्यालय में कला वर्ग के लिए करियर सेमिनार का आयोजन किया। महाविद्यालय की लैब में हुए इस सेमिनार के मुख्य वक्ता विकास डब्ल्यू एस पी लिमिटेड के एम डी बी डी अग्रवाल थे। श्री अग्रवाल ने अपने संबोधन में कला वर्ग में करियर की अपार संभावनाओं का ज़िक्र करते हुए इस धारना को गलत बताया कि कला के विधार्थी कुछ नहीं बन सकते। उन्होंने कहा कि संयोग से सपने पूरे नहीं हुआ करते । इनको पूरा करने के लिए बहुत कुछ करना पड़ता है। श्री अग्रवाल ने कहा कि कला में जितनी सम्भावना है उतनी और कहीं नहीं। इस विषय के विद्यार्थियों के लिए हर रास्ता खुला है। विद्यार्थी किसी भी रह चल कर सामाजिक, आर्थिक और प्रशासनिक क्षेत्र में ऊँची सफलता प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने विद्यार्थियों से दिमाग की दोनों दिशाओं का प्रयोग करने की सलाह देते हुए कहा, अपने आप से अपनी तीव्र इच्छा पूछिये। अपनी इच्छा के विरुद्ध कोई काम ना करें। श्री अग्रवाल ने कहा कि अपने मिशन को लिखकर अपने सामने दीवार पर चिपकाओ। ताकि हर पल वह तुम्हारे सामने रहे। इन्सान का विजन ही उसे सफलता की ओर लेकर जाता है। स्टूडेंट यूनियन की ओर से यूनियन की महासचिव स्वाति गोयल ने श्री अग्रवाल का स्वागत करते हुए उनका परिचय दिया। व्याख्याता मृदुला यादव ने महाविद्यालय की ओर से बी डी अग्रवाल का धन्यवाद किया। श्री अग्रवाल को यूनियन की महासचिव स्वाति गोयल , कोषाध्यक्ष सोनिया , कक्षा प्रतिनिधि विधू शर्मा ने स्मृति चिन्ह भेंट किया। मंच पर श्री अग्रवाल के साथ महाविद्यालय के निदेशक एम एल सामरिया भी थे। सेमिनार के बाद श्री अग्रवाल यूनियन के ऑफिस भी गए। उन्होंने पदाधिकारियों से परिचय कर सहयोग का आश्वासन दिया।

1 comment:

कविता रावत said...

achhi jaankari....
jeewan jeena bhi to ek kala hai... bus jarurat hai sahi disha kee..