Friday 15 April 2011

सफर रोज का,जाना कहीं नहीं

के कंडक्टर जैसी
हो गई है जिंदगी,
सफ़र भी रोज का
और
जाना भी कहीं नहीं

----

तीस साल पुराने मित्र राजेश अरोड़ा का एक एस एम एस।

No comments: