Sunday 17 May 2009

आडवानी जी आराम करो



--चुटकी--

उम्र हो गई ज्यादा
अब आप करो आराम,
हमारा तो स्वीकार करो
जय जय जय सिया राम।

---गोविन्द गोयल

9 comments:

आदर्श राठौर said...

जय सिया राम

vani Geet said...

very bad!!!!

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

जुआ खेला था।

डॉ. मनोज मिश्र said...

अभी कहाँ आराम भला .

राजकुमार ग्वालानी said...

अब जब रहा ही नहीं काम तो
करना ही पड़ेगा आराम,
जब किसी को भी भाया नहीं नाम
क्या करें अडवानी.. हे राम...
इसे भी देखें
मनमोहन का अर्थशास्त्र आया काम-अडवानी का नहीं भाया नाम

आर्यावर्त said...

ब्लॉग पर कमेन्ट कर उत्साहवर्धन करने के लिए आभार.
दिशा निर्देशित करते रहें.

सादर
आर्यावर्त

Abhishek Mishra said...

Narayan-Narayan.

शोभना चौरे said...

jbbujurg hi kam krte rhege to yuvao ki bari kab avegi aur jb tak unki bari aavegive khud bujurg ho javege .

Suman said...

acchahai.