Monday 24 March 2014

मेरे मन को जानने वाले
गुम  हो गए दो नैन,
कौन सुनेगा किसको सुनाऊँ
कैसे मिले अब चैन.
[कचरा]

No comments: