Monday 14 June 2010

न्याय नहीं फैसले होतें हैं

---- चुटकी----

आजकल
पीड़ित लोग
इसलिए

रोते हैं,
क्योंकि
अब
पंचायत में
न्याय नहीं
फैसले होते हैं।

4 comments:

sanu shukla said...

ekdam sahi kaha..

hamane apne yaha court of justice banaya hi nahi hai...balki court of law banaya hai..

sanu shukla said...

ekdam sahi kaha..

hamane apne yaha court of justice banaya hi nahi hai...balki court of law banaya hai..

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

सटीक व्यंग

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

अदालतों में भी यही होता है.. फैसले...