Friday 3 September 2010

गोरी राधा सांवरा श्याम

हर शाम किसी के लिए सुहानी नहीं होती
हर चाहत के पीछे कोई कहानी नहीं होती,
कुछ तो असर होता ही है मोहब्बत में
वरना गोरी राधा यूँ सांवरे श्याम की दीवानी नहीं होती।
कोटा से मैडम संतोष बैरवा द्वारा भेजा गया एस एम एस।

2 comments:

Udan Tashtari said...

बहुत उम्दा!

कविता रावत said...

कुछ तो असर होता ही है मोहब्बत मेंवरना गोरी राधा यूँ सांवरे श्याम की दीवानी नहीं होती।
....esi kaa naam to prem hai....
bahut achhi post sundar chitra ke saath...